होमसामान्य ज्ञानसमाज सेवा के 6 मूल सिद्धान्त

समाज सेवा के 6 मूल सिद्धान्त

समाज सेवा के 6 मूल सिद्धान्त – Samaj Seva Ke 6 Mul Siddhant दिया गया है अगर आप इसे अपनाते हैं तो आपका समाज या समुदाय जिस लड़ाई को लड़ रहा है उसमें एक दिन जरुर सफल होगा।

समाज सेवा के 6 मूल सिद्धान्त Samaj Seva Ke 6 Mul Siddhant

  1. समाज के लिए लड़ाई लड़ो।
  2. लड़ नही सकते तो लिखो।
  3. लिख नही सकते तो बोलो।
  4. बोल नहीं सकते तो साथ दो।
  5. साथ भी नहीं दे सकते तो जो लिख और बोल रहे हैं, जो लड़ रहे हैं, उनका अधिक से अधिक सहयोग करें। संघर्ष के लिए ताकत दें।
  6. ये भी न कर सकें तो कम से कम मनोबल न गिरायें क्योकि कहीं न कहीं कोई आपके हिस्से की भी लड़ाई लड़ रहे है। तभी सच्ची समाज सेवा सिद्ध होगी। शिक्षित बनो, संगठित रहो, संघर्ष करो

दोस्तों अगर इस आर्टिकल में दी गई जानकारी समाज सेवा के 6 मूल सिद्धान्त – Samaj Seva Ke 6 Mul Siddhant आपको पसंद आया हो तो अपने दोस्तों, रिश्तेदारों, परिचितों में शेयर करें और नीचे कमेंट कर अपनी प्रतिक्रिया जरूर दें। धन्यवाद

Satish
Satish
सतीश कुमार शर्मा ApnaLohara.Com नेटवर्क के संस्थापक और एडिटर-इन-चीफ हैं। वह एक आदिवासी, भारतीय लोहार, लेखक, ब्लॉगर और सामाजिक कार्यकर्ता हैं।
- विज्ञापन -

1 COMMENT

  1. आपकी राय मुझे अच्छा लगा , हम आपके विचार से सहमत है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

20 − 4 =

- विज्ञापन -

लोकप्रिय पोस्ट

- विज्ञापन -
close