अनुसूचित जाति किसे कहते हैं? -Anusuchit Jati Kise Kahte Hain?

By Satish (Admin)
anusuchit jati ki paribhasha, anusuchit meaning in hindi, anusuchit janjati ka matlab
Scheduled Castes - ST

क्या आप जानना चाहते हैं कि "अनुसूचित जाति किसे कहते हैं?" Anusuchit Jati Kise Kahte Hain? - Scheduled Castes Meaning In Hindi तो आप बिलकुल सही आर्टिकल पढ़ रहे हैं क्योंकि यहाँ आपको जानकारी पढ़ने के साथ साथ रिफरेन्स Constitution of India PDF in Hindi और Constitution of India PDF in English डाऊनलोड भी कर सकते हैं। तो आर्टिकल अंत तक जरूर पढ़े:-


अनुसूचित जाति किसे कहते हैं? - Anusuchit Jati Kise Kahte Hain? Scheduled Castes Meaning In Hindi

भारत के संविधान के अनुच्छेद 366 (24) “अनुसूचित जातियों” से ऐसी जातियां, मूलवंश या जनजातियां अथवा ऐसी जातियों, मूलवंशों या जनजातियों के भाग या उनमें के यूथ अभिप्रेत हैं जिन्हें इस संविधान के प्रयोजनों के लिए अनुच्छेद 341 के अधीन अनुसूचित जातियां समझा जाता है।

Article 366(24) "Scheduled Castes means such Castes, races or tribes or parts of or groups within such castes, races or tribes as are deemed under article 341 to be Scheduled Castes for the purpose of this Constitution.

भारत के संविधान के अनुच्छेद 341 अनुसूचित जातियां (1) राष्ट्रपति, ' किसी राज्य [या संघ राज्यक्षेत्र के संबंध में और जहां वह 3 *** राज्य है वहां उसके राज्यपाल 4 *** से परामर्श करने के पश्चात्] लोक अधिसूचना द्वारा, उन जातियों, मूलवंशों या जनजातियों, अथवा जातियों, मूलवंशों या जनजातियों के भागों या उनमें के यूथों को विनिर्दिष्ट कर सकेगा, जिन्हें इस संविधान के प्रयोजनों के लिए [यथास्थिति,] उस राज्य [या संघ राज्यक्षेत्र के संबंध में अनुसूचित जातियां समझा जाएगा।

Article 341(1) The President may with respect to any State or Union territory, and where it is a State after consultation with the Governor thereof, by public notification, specify the castes, races or tribes or parts of or groups within the castes, races or tribes which shall for the purpose of this Constitution be deemed to be Scheduled Castes in relation to that State or Union territory, as the case may be.

अनुच्छेद 341(2) संसद्, वि द्वारा, किसी जाति, मूलवंश या जनजाति को अथवा जाति, मूलवंश या जनजाति के भाग या उसमें के यूथ को खंड (1) के अधीन निकाली गई अधिसूचना में विनिर्दिष्ट अनुसूचित जातियों की सूची में सम्मिलित कर सकेगी या उसमें से अपवर्जित कर सकेगी, किन्तु जैसा ऊपर कहा गया है उसके सिवाय उक्त खंड के अधीन निकाली गई अधिसूचना में किसी पश्चातवर्ती अधिसूचना द्वारा परिवर्तन नहीं किया जाएगा।

Article 341(2) Parliament may by law include in or exclude from the list of Scheduled Castes specified in a notification issued under clause (1) any caste, race or tribe or part of or group within any caste, race or tribe, save as aforesaid a notification issued under the said clause shall not be varied by any subsequent notification.

दोस्तों, आशा हैं अनुसूचित जाति (SC - Scheduled Castes) से सम्बंधित जानकारी जैसे- अनुसूचित जाति किसे कहते हैं?" Anusuchit Jati Kise Kahte Hain? अनुसूचित जाति की परिभाषा - Anusuchit jati ki paribhasha, Anusuchit janjati ka matlab, Anusuchit meaning in Hindi मिल चुका होगा। इसे अपने दोस्तों, परिवार, रिस्तेदारों के व्हाट्सएप ग्रुप, फेसबुक पर शेयर करें और नीचे कमेंट कर अपनी प्रतिक्रिया दे। धन्यवाद

Reference:-
  1. Constitution of India PDF in Hindi - Download
  2. Constitution of India PDF in English 2020 - Download
  3. Tenth Annual Report of National Commission for Scheduled Castes for the year 2016-17 submitted to the President of India on 17.10.2016.Laid in Parliament on 09.08.2018 - Download
Read More
आप हमें बता सकते हैं:-

अगर आपके पास भी कोई प्रेरणादायक कहानी, सामाजिक जानकारी, लेख, समाज हित के लिए कोई सकारात्मक सुझाव है, या कोई संदेश देना चाहते हैं तो हमें बताएं, हम आपकी बात सबको बताएंगे.

आदिवासी का अर्थ क्या होता हैं? Adivasi Ka Arth Kya Hota Hai?

By Satish (Admin) 13 Comments
Aboriginal Meaning In Hindi, Tribal Hindi Meaning, Adivasi Ka Matlab,
Tribal Hindi Meaning
क्या आप “आदिवासी का अर्थ - Tribes Meaning In Hindi” जानना चाहते हैं? हाँ में जवाब है तो आप बिल्कुल सही ब्लॉग पर आए हैं क्योंकि यहाँ आप पढ़ेंगे आसान भाषा में परफेक्ट जानकारी, तो इस आर्टिकल को आगे पूरी ध्यान से अंत तक पढ़िये और नीचे कमेंट कर अपनी प्रतिक्रिया देना तो बिल्कुल नही भूलियेगा। आगे पढ़िए:-

आदिवासी का अर्थ क्या होता हैं? Adivasi Ka Arth Kya Hota Hai? Adivasi Meaning In Hindi, Tribes Meaning In Hindi.

आदिवासी शब्द दो शब्दों आदि और वासी से मिलकर बना है। आदि का शाब्दिक अर्थ प्रारम्भ या शुरू होता है एवं वासी का अर्थ निवास करने वाला होता हैं, अर्थात् जो प्रारम्भ या शुरू से निवास करता हो, अर्थात Adivasi Ka Arth - आदिवासी का शाब्दिक अर्थ “मूलवासी” होता हैं

Aboriginal Meaning In Hindi - आदिवासी Aboriginal (एबोरिजिनल) शब्द का हिन्दी अनुवाद है जिसका प्रयोग - “किसी भौगोलिक क्षेत्र के उन निवासियों के लिए किया जाता है जिसका उस भौगोलिक क्षेत्र से पुराना सम्बन्ध हो। अर्थात् यह कहा जाता है कि आदिवासी ही किसी देश के मूलवासी होते हैं।

Tribal Hindi Meaning - सन 1943 में मानव विज्ञान के विद्यार्थियों के लिए सुपरिचित वेरियर एल्विन (Veriar Elwin) के शब्द में - “आदिवासी भारत वर्ष की वास्तविक स्वदेशी उपज है जिनकी उपस्थिति में प्रत्येक व्यक्ति विदेशी है । ये वे प्राचीन लोग हैं जिनके नैतिक अधिकार और दावे हजारों वर्ष पुराने हैं।” एल्विन की इसी आदिवासी अवधारणा को संविधान सभा में रखा गया। इन्होंने आदिवासी क्षेत्रे को 'राष्ट्रीय उपवन' घोषित करने पर जोर दिया।

Tribes Meaning In Hindi - अतः आदिवासी शब्द का शाब्दिक अर्थ - “किसी भौगोलिक क्षेत्र में प्रारंभ से वास करने वाला समुदाय आदिवासी हैं अर्थात Adivasi Ka Arth: उस भगोलिक क्षेत्र के मूलवासी हैं

संवैधानिक नाम:
भारत में आदिवासी समुदाय का संवैधानिक नाम (Constitutional Name Of Tribal Community) - अनुसूचित जनजाति (Scheduled Tribes) हैं। जिसे संक्षिप्त में अ.ज.जा. या ST बोला जाता हैं।

संविधान सभा के सामने सबसे बड़ी समस्या नामकरण की तब आयी जब विशेष प्रावधान देने की चर्चा उठी। इस सभा के विवादों में ठक्कर बापा और जयपाल सिंह के नाम विशेष रूप से उल्लेखनीय हैं। ठक्कर बापा आदिम समाज के सेवक थे। वे जनजातियों को आदिवासी नाम से पुकारते थे। संविधान सभा में जयपाल सिंह ने बड़ी ताकत के साथ यह पैरवी की कि संविधान में अनुसूचित जनजातियों के स्थान पर आदिवासी शब्द का प्रयोग होना चाहिए। इस विवाद के परिणामस्वरूप संविधान के मूल अंग्रेज़ी रूप में आदिवासी शब्द का प्रयोग तो नहीं हुआ, किन्तु रूपान्तर में इस शब्द को अपना लिया गया। भारत सरकार द्वारा 1955 में प्रकाशित पुस्तक का शीर्षक आदिवासी (हिन्दी और English) हैं।

Adhivasi Meaning In Hindi - Tribes Meaning In Hindi - भारत में Respected Supreme Court Of India (भारत का सर्वोच्च न्यायालय) के 2011 में Kailas & Others -versus- State of Maharashtra TR Judgment में लिखा हैं:- “The tribal people (Scheduled Tribes or Adivasis), who are probably the descendants of the original inhabitants of India, but now constitute only about 8% of our total population” अनुवाद - “आदिवासी लोग (अनुसूचित जनजाति या आदिवासी), जो संभवतः भारत के मूल निवासियों के वंशज हैं, लेकिन अब हमारी कुल आबादी का केवल 8% हैं”

अनुसूचित जनजातियाँ (Scheduled Tribes)
भारत के संविधान के अनुच्छेद 366 (25) में अनुसूचित जनजातियों (Scheduled Tribes) का उल्लेख उन समुदायों के रुप में किया गया है जो संविधान के अनुच्छेद 342 के अनुसार अनुसूचित हैं। इस अनुच्छेद में यह कहा गया है कि केवल वे समुदाय जिन्हें राष्ट्रपति द्वारा प्रारंभिक लोक अधिसूचना के जरिए अथवा संसद के अधिनियम में अनुवर्ती संशोधन के जरिए इस प्रकार घोषित किया गया है, को अनुसूचित जनजाति माने जाएंगे।

Adhivasi Meaning In Hindi - Tribes Meaning In Hindi - Tribal Hindi Meaning.
दोस्तों, आशा हैं आप आदिवासी शब्द का शाब्दिक अर्थ - “किसी भौगोलिक क्षेत्र में प्रारंभ से वास करने वाला समुदाय आदिवासी हैं अर्थात Adivasi Ka Arth - उस भगोलिक क्षेत्र के मूलवासी हैं” समझ गए होंगे। इस आर्टिकल को व्हाट्सएप, फेसबुक पर अपने दोस्तों-परिचितों के साथ शेयर करे और नीचे कमेंट कर अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। धन्यवाद

इसे भी पढ़े:-
Read More

अनुसूचित जनजाति किसे कहते हैं? Anusuchit Janjati Kise Kahte Hai?

By Satish (Admin) 3 Comments
sarvadhik anusuchit janjati wala rajya, pramukh janjatiyan, st kise kahte hai
Scheduled Tribes (ST)
क्या आप जानना चाहते हैं कि "अनुसूचित जनजाति किसे कहते हैं?" Anusuchit janjati Kise Kahte Hai? - Scheduled Tribes Meaning In Hindi तो आप बिलकुल सही आर्टिकल पढ़ रहे हैं क्योंकि यहाँ आप जानकारी पढ़ने के साथ साथ ST से संबंधित Documents भी Download कर सकते हैं, तो आर्टिकल शुरू से अंत तक जरूर पढ़े और नीचे कमेंट करना तो बिल्कुल नही भूले:-

अनुसूचित जनजाति किसे कहते हैं? - Anusuchit Janjati Kise Kahte Hai?

अनुसूचित जनजातिया - Anusuchit Janjati - What is Scheduled Tribe (ST) In Hindi?
भारत के संविधान के अनुच्छेद 366 (25) अनुसूचित जनजातियों का उल्लेख उन समुदायों के रुप में किया गया है जो संविधान के अनुच्छेद 342 के अनुसार अनुसूचित हैं। इस अनुच्छेद में यह कहा गया है कि केवल वे समुदाय जिन्हें राष्ट्रपति द्वारा प्रारंभिक लोक अधिसूचना के जरिए अथवा संसद के अधिनियम में अनुवर्ती संशोधन के जरिए इस प्रकार घोषित किया गया है, को अनुसूचित जनजाति माने जाएंगे।

Article 366 (25) of the Constitution of India refers to Scheduled Tribes as those communities who are scheduled in accordance with Article 342 of the Constitution. This Article says that only those communities who have been declared as such by the President through an initial public notification or through a subsequent amending Act of Parliament will be considered to be Scheduled Tribes.

अनुसूचित जनजातियों की सूची राज्य/संघ राज्यक्षेत्र विशेष है और किसी राज्य में किसी समुदाय को यदि अनुसूचित जनजाति के रूप में घोषित किया हो तो यह जरूरी नहीं कि दूसरे राज्य में भी उस समुदाय को अनुसूचित जाति माना जाए।

अनुसूचित जनजाति में कितनी जाति है?
प्रमुख जनजातियां - Pramukh Janjatiyan
भारत के संविधान के अनुच्छेद 342 के अंतर्गत 700 से अधिक जनजातियां अधिसूचित हैं, जो देश के विभिन्न राज्यों और संघ राज्यक्षेत्रों में फैली हुई हैं। अनेक जनजातियां एक से अधिक राज्यों में मौजूद हैं। अनुसूचित जनजातियों के रूप में अधिसूचित समुदायों की सबसे अधिक संख्या अर्थात् 62 उड़ीसा राज्य में है।

जनजातियों का अनुसूचीकरण एवं अनुसूची से हटाया जानाः
"अनुसूचित जनजातियां" शब्द की परिभाषा संविधान के अनुच्छेद 366 (25) में इस प्रकार की गई है, "ऐसी जनजाति या जनजाति समुदाय या इन जनजातियों और जनजातीय समुदायों का भाग या उनके समूह के रूप में, जिन्हें इस संविधान के उद्देश्यों के लिए अनुच्छेद 342 में अनुसूचित जनजातियां माना गया है" या अनुच्छेद 342 में अनुसूचित जनजातियों के विनिर्देशन के मामले में अनुसरण किए जाने की प्रक्रिया निर्धारित की गई है।

The term "Scheduled Tribes" is defined in Article 366 (25) of the Constitution as "such tribes or tribal communities or parts of, or groups within such tribes, or tribal communities as are deemed under Article 342 to be Scheduled Tribes for the purposes of this Constitution". Article 342 prescribes the procedure to be followed in the matter of specification of Scheduled Tribes.

संविधान के अनुच्छेद 342 के खंड (1) के अधीन राष्ट्रपति, किसी राज्य या संघ राज्यक्षेत्र, तथा जहां यह एक राज्य है, उसके राज्यपाल के परामर्श से जनजातियों या जनजातीय समुदायों या इनके भागों को अनुसूचित जनजातियों के रूप में अधिसूचित कर सकते हैं। इससे जनजाति या इसके भाग को संविधान में किए गए रक्षोपायों के प्रावधान का आह्वान करते हुए उनके संबंधित राज्यों/संघ राज्यक्षेत्रों में उन्हें संवैधानिक दर्जा प्रदान करता है।

Under Clause (1) of Article 342, the President may, with respect to any State or Union Territory, and where it is a State, after consultation with the Governor thereof, notify tribes or tribal communities or parts of these as Scheduled Tribes. This confers on the tribe, or part of it, a Constitutional status invoking the safeguards provided for in the Constitution, to these communities in their respective States/UTs.

अनुच्छेद 342 का खण्ड (2) संसद को किसी जनजाति या जनजातीय समुदाय या इनके भागों को अनुसूचित जनजातियों की सूची में शामिल करने या हटाने के लिए कानून पारित करने की शक्तियां प्रदान करता है।

Clause (2) of the Article 342 empowers the Parliament to pass a law to include in or exclude from the list of Scheduled Tribes, any tribe or tribal community or parts of these.

इस प्रकार, किसी विशेष राज्य/संघ राज्यक्षेत्र के संबंध में अनुसूचित जनजातियों का पहला विनिर्देश संबंधित राज्य सरकारों के परामर्श से राष्ट्रपति के अधिसूचित आदेश द्वारा होता है। राज्य और संघ राज्यक्षेत्रों से संबंधित अनुसूचित जनजाति को विनिर्दिष्ट करने वाले आदेशों की सूची अनुलग्नक -5 क में दी गई है। राष्ट्रपति का आदेश संसद के अधिनियमों के द्वारा संशोधित किया गया है।

किसी समुदाय को अनुसूचित जनजाति के रूप में विनिर्दिष्ट करने के लिए अपनाये जाने वाले मानदंड निम्नलिखित हैं:
  • आदिम लक्षणों के संकेत
  • विशिष्ट संस्कृति
  • भौगोलिक एकाकीपन
  • समुदाय के साथ स्वछंद सम्पर्क में संकोच, तथा
  • पिछड़ापन।
इन मानदंडों का उल्लेख संविधान में नहीं है, परन्तु ये सुस्थापित और स्वीकृत हो चुके हैं। यह 1931 की जनगणना, प्रथम पिछड़ा वर्ग आयोग (कालेलकर) 1955, अनुसूचित जातियों/अनुसूचित जनजातियों की सूची के संशोधन संबधी सलाहकार समिति (लोकुर समिति), 1965 तथा अनुसूचित जाति तथा अनुसूचित जनजातिसंबंधी संयुक्त संसदीय समिति के आदेश (संशोधन) विधेयक 1967, चंदा समिति, 1969 में उल्लिखित परिभाषाओं को ध्यान में रखा जाता है।

अनुसूचित जनजातियों की राज्य/संघ राज्यक्षेत्र-वार सूची अनुलग्नक 5-ख में दी गई है। हरियाणा और पंजाब राज्यों तथा चंडीगढ़ और दिल्ली संघ राज्यक्षेत्रों में किसी भी समुदाय को अनुसूचित जनजाति के रूप में विनिर्दिष्ट नहीं किया गया है।

व्यक्तियों की अनुसूचित जनजाति स्थिति का पता लगाना
जहां कोई व्यक्ति जन्म से अनुसूचित जनजाति से संबंधित होने का दावा करता है वहां यह सत्यापित किया जाना चाहिए:
(i) कि वह व्यक्ति या उसके माता-पिता दावा किए गए समुदाय से संबंधित हैं,
(ii) कि वह समुदाय अपने संबंधित राज्य के संबंध में अनुसूचित जनजातियों को विनिर्दिष्ट करने वाले राष्ट्रपति के आदेश में शामिल है;
(iii) कि वह व्यक्ति उस राज्य तथा उस राज्य के अंतर्गत उस क्षेत्र से संबंधित है जिसका समुदाय अनुसूचित किया गया है,
(iv) कि वह या उसके माता-पिता/दादा-दादी आदि उसके मामले में लागू राष्ट्रपति के आदेश को अधिसूचित करने की तारीख को उस राज्य/संघ राज्यक्षेत्र के स्थायी निवासी होने चाहिए;
(v) वह किसी भी धर्म का अनुयायी हो सकता है;

वह व्यक्ति जो राष्ट्रपति द्वारा लागू आदेश की अधिसूचना जारी होने के समय अपने स्थायी निवास स्थान से अस्थाई रूप से दूर होता है अर्थात् उदाहरण के लिए जीविकोपार्जन या शिक्षा प्राप्त करने आदि के कारण तो उसके मामले में उसे भी अनुसूचित जनजाति के रूप में माना जा सकता है, यदि उसकी जनजाति/समुदाय को उस आदेश में उसके राज्य/संघ राज्यक्षेत्र के संबंध में विनिर्दिष्ट किया गया है। परन्तु इस तथ्य के बावजूद कि उस राज्य में जहां वह अस्थायी रूप से बस गया है, के संबंध में उसकी जनजाति के नाम को राष्ट्रपति के किसी आदेश में अधिसूचित किया गया है, उसके अस्थाई निवास के संबंध में उसे राष्ट्रपति के उक्त आदेश में शामिल नहीं माना जा सकता है।

राष्ट्रपति के संबंधित आदेश के अधिसूचित होने की तारीख के पश्चात् पैदा हुए लोगों के सम्बन्ध में अनुसूचित जनजाति की हैसियत प्राप्त करने के लिए वह निवास स्थान मान्य होगा जो उक्त आदेश जिसके तहत उन्होंने इस प्रकार की जनजाति होने का दावा किया है, के अधिसूचित होने की तारीख को उनके माता-पिता का स्थायी निवास स्थान था। यह लक्षद्वीप संघ शासित क्षेत्र की अनुसूचित जनजातियों पर लागू नहीं होता है, जिनके लिए अनुसूचित जनजाति की स्थिति की पात्रता के लिए इस संघ शासित क्षेत्र में जन्म होना अपेक्षित होता है।

एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाने के बाद अनुसूचित जनजाति का दावा
(i) यदि एक व्यक्ति राज्य के उस भाग जिसके संबंध में उसका समुदाय अनुसूचित है, से उसी राज्य के दूसरे भाग जिसके संबंध में वह समुदाय अनुसूचित नहीं है, में चला जाता है तो वह व्यक्ति उस राज्य के संबंध में अनुसूचित जनजाति का एक सदस्य समझा जाता रहेगा।
(ii) यदि एक व्यक्ति एक राज्य से दूसरे राज्य में चला जाता है तो वह केवल अपने मूल राज्य के संबंध में अनुसूचित जनजाति से संबंधित होने का दावा कर सकता है और उस राज्य के संबंध में नहीं जिसमें वह बस गया है।

विवाह के माध्यम से अनुसूचित जनजाति के दावे
इस संबंध में मार्गदर्शी सिद्धांत यह है कि कोई भी व्यक्ति जो जन्म से अनुसूचित जनजाति का नहीं है, उसे केवल इसलिए अनुसूचित जनजाति का सदस्य नहीं माना जाएगा कि उसने एक अनुसूचित जनजाति से संबंधित व्यक्ति से विवाह कर लिया है। इसी प्रकार कोई व्यक्ति जो किसी अनुसूचित जनजाति का सदस्य है वह अपनी शादी उस व्यक्ति जो अनुसूचित जनजाति से संबंधित नहीं है, के साथ हो जाने के बाद भी अनुसूचित जनजाति का सदस्य बना रहेगा।

अनुसूचित जनजाति का प्रमाण-पत्र जारी करना
अनुसूचित जनजाति से संबंधित उम्मीदवारों को निम्नलिखित प्राधिकारियों में से किसी प्राधिकारी द्वारा निर्धारित प्रपत्र में अनुसूचित जनजाति प्रमाण-पत्र जारी किए जा सकते हैं :
(i) जिला मजिस्ट्रेट/अपर जिला मजिस्ट्रेट/कलेक्टर/उपायुक्त/अपर उपायुक्त/उप-कलेक्टर/प्रथम श्रेणी वेतन भोगी मजिस्ट्रेट/नगर मजिस्ट्रेट/उप-मण्डलीय मजिस्ट्रेट/तालुका मजिस्ट्रेट/कार्यपालक मजिस्ट्रेट/अतिरिक्त सहायक आयुक्त। (जो प्रथम श्रेणी के वेतन भोगी मजिस्ट्रेट से निचले स्तर के न हों)
(ii) मुख्य प्रेसिडेन्सी मजिस्ट्रेट/अपर मुख्य प्रेसिडेन्सी मजिस्ट्रेट/प्रेसिडेन्सी मजिस्ट्रेट।
(iii) राजस्व अधिकारी, जो तहसीलदार से नीचे के स्तर के न हों।
(iv) उस क्षेत्र जहां वह उम्मीदवार तथा/या उसका परिवार सामान्य तौर पर निवास करता है, का उप-मण्डलीय अधिकारी।
(v) प्रशासक/प्रशासक के सचिव/विकास अधिकारी (लक्षद्वीप द्वीप समूह)।

बिना उचित सत्यापन के अनुसूचित जनजाति के प्रमाण-पत्र जारी करने वाले अधिकारियों के लिए दंड
यदि किसी अधिकारी के संबंध में यह पता चलता है कि उसने अनुसूचित जनजाति प्रमाण-पत्र असावधानीपूर्वक तथा बिना उचित सत्यापन के जारी कर दिया है, तो भारतीय दंड संहिता के संगत प्रावधानों के अंतर्गत उसके विरूद्ध कार्रवाई की जाएगी। यह उन पर लागू उपयुक्त अनुशासनिक नियमों के अंतर्गत की जाने वाली कार्रवाई के अलावा होगी।

अन्य राज्यों/संघ राज्यक्षेत्रों से आए प्रवासियों को अनुसूचित जनजाति के प्रमाण-पत्र जारी करने की प्रक्रिया को उदार बनाना
किसी अनुसूचित जनजाति से संबंधित व्यक्ति जो एक राज्य से दूसरे राज्य में रोजगार, शिक्षा आदि के लिए आए हैं वे उस राज्य से प्रमाण-पत्र प्राप्त करने में बहुत कठिनाई का अनुभव करते हैं जहां से वे आए हैं। इस कठिनाई को दूर करने के लिए यह निर्णय लिया गया है कि एक राज्य सरकार/संघ राज्यक्षेत्र प्रशासन का निर्धारित प्राधिकारी उसके मातापिता के मूल राज्य के निर्धारित प्राधिकारी द्वारा उसके माता/पिता को जारी किए गए वास्तविक प्रमाण-पत्र को प्रस्तुत करने पर उस परिस्थिति को छोड़कर जिसमें वह निर्धारित प्राधिकारी यह महसूस करता है कि प्रमाण-पत्र जारी करने से पूर्व मूल राज्य के माध्यम से विस्तृत जांच आवश्यक है, उस व्यक्ति को अनुसूचित जनजाति का प्रमाण-पत्र जारी कर सकता है जो किसी अन्य राज्य से आया है। यह प्रमाण-पत्र इसका ध्यान किए बिना जारी कर दिया जाएगा कि वह संबंधित जनजाति उस राज्य/संघ राज्यक्षेत्र जिससे वह व्यक्ति आया है, में अनुसूचित है अथवा नहीं। तथापि, वे उस राज्य में अनुसूचित जनजातियों के लाभों के पात्र नहीं होंगे जहां वे स्थानांतारित हुए हैं।

अनुसूचित जनजातियों के विनिर्दिष्ट आदेशों में समावेश, उससे अपवर्जन तथा अन्य संशोधनों हेतु दावों के निर्धारण के लिए प्रविधियां
जून, 1999 में सरकार ने अनुसूचित जनजातियों की सूचियों में समावेशन और आय अपवर्जन करने संबंधी दावों के निर्णय के लिए प्रविधियों को अनुमोदित किया जिन्हें 25.6.2002 को पुनः संशोधित किया गया। इन अनुमोदित प्रविधियों के अनुसार केवल उन मामलों को विचारार्थ लिया जाएगा जिन पर राज्य सरकार, भारत के महापंजीयक (आरजीआई) तथा राष्ट्रीय अनुसूचित जाति तथा अनुसूचित जनजाति आयोग (एनसीएसटी) (जो अब राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग है) की सहमति होगी। जब कभी किसी राज्य की अनुसूचित जनजातियों की सूची में किसी समुदाय को शामिल करने अथवा उस से अपवर्जन के लिए मंत्रालय में अभ्यावेदन प्राप्त होते हैं तो प्रविधियों के अनुसार मंत्रालय संविधान के अनुच्छेद 342 के तहत आवश्यकतानुसार संबधित राज्य सरकार को उस अभ्यावेदन को सिफारिश के लिए भेज देता है। यदि संबंधित राज्य सरकार उस प्रस्ताव की सिफारिश करती है तो उसे भारत के महापंजीयक को भेज दिया जाता है। यदि भारत के महापंजीयक राज्य सरकार की सिफारिश से संतुष्ट होते हैं तो वह उस प्रस्ताव को केन्द्र सरकार को अपनी सिफारिश के साथ भेजते हैं। तत्पश्चार, सरकार उस प्रस्ताव को अनुसूचित जनजाति आयोग को सिफारिश के लिए भेजती है। यदि राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग भी सिफारिश कर देता है तो उस मामले पर मंत्रिमंडल के निर्णय के लिए कार्यवाही की जाती है। उसके बाद मामले को राष्ट्रपति के आदेश को संशोधित करने के लिए एक विधेयक के रूप में संसद के समक्ष प्रस्तुत कर किया जाता है। अनुसूचित जनजातियों के लिए शामिल करने/या उस से अपवर्जन के मामले जिसका राज्य सरकार/संघ शासित क्षेत्र अथवा आरजीआई, अथवा राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग समर्थन नहीं करते, निरस्त कर दिए जाते हैं।

भारत में अनुसूचित जनजाति की संख्या कितनी है?
जनगणना 2011 के अनुसार भारत में अनुसूचित जनजाति की संख्या 10.45 करोड़ हैं।

भारत में जनजातियों की प्रतिशत जनसंख्या क्या है?/भारत में आदिवासी कितने प्रतिशत है?
जनगणना 2011, के अनुसार भारत में जनजातियों की प्रतिशत जनसंख्या देश की कुल जनसंख्या का 8.6 प्रतिशत है तथा कुल ग्रामीण जनसंख्या का 11.3 प्रतिशत है। अनुसूचित जनजाति के पुरूषों की जनसंख्या 5.25 करोड़ तथा अजजा महिलाओं की जनसंख्या 5.20 करोड़ है।

सर्वाधिक अनुसूचित जनजाति वाला राज्य कौन सा है? - Sarvadhik anusuchit janjati wala rajya?
अनुसूचित जनजातियों के रूप में अधिसूचित समुदायों की सबसे अधिक संख्या अर्थात् 62 उड़ीसा राज्य में है।

भारत में अनुसूचित जनजातियों/आदिवासियों का धर्म क्या है?
भारत में अनुसूचित जनजातियां समुदाय किसी लिखित धर्मग्रंथ के अनुसार किसी धर्म का पालन नही करते हैं। अनुसूचित जनजातियां/आदिवासी समुदाय प्रकृति को मानते हैं।

राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग का गठन कब किया गया?
राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग का गठन 19 फरवरी 2004 किया गया।

राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग के अध्यक्ष कौन हैं?
राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग के अध्यक्ष https://ncst.nic.in/ के अनुसार Vacant (खाली हैं)।

दोस्तों, आशा हैं अनुसूचित जनजाति (ST - Scheduled Tribes) से सम्बंधित जानकारी जैसे- अनुसूचित जनजाति किसे कहते हैं? Anusuchit janjati Kise Kahte Hai?, अनुसूचित जनजाति में कितनी जाति है?, भारत में अनुसूचित जनजाति की संख्या कितनी है?, भारत में जनजातियों की प्रतिशत जनसंख्या क्या है?, भारत में आदिवासी कितने प्रतिशत है?, सर्वाधिक अनुसूचित जनजाति वाला राज्य कौन सा है?, आदिवासियों का धर्म क्या है? मिल चुका होगा। इसे अपने दोस्तों, परिवार, रिस्तेदारों के व्हाट्सएप ग्रुप, फेसबुक पर शेयर करें और नीचे कमेंट कर अपनी प्रतिक्रिया दे। धन्यवाद

Reference:-
Read More

बिहार में अनुसूचित जनजाति और अनुसूचित जाति तथा अत्यंत पिछड़ा वर्ग (अनुसूची-1) और पिछड़ा वर्ग (अनुसूची-2) की सूची

By Satish (Admin)
BC1 Caste List in Bihar 2021B, BC2 Caste List in Bihar 2021, List of Scheduled Caste in Bihar
List Of ST/SC/EBC/BC Castes In Bihar

बिहार में अनुसूचित जनजाति और अनुसूचित जाति तथा अत्यंत पिछड़ा वर्ग (अनुसूची-1) और पिछड़ा वर्ग (अनुसूची-2) की सूची - List of Scheduled Tribes in Bihar / ST Caste list in Bihar, List of Scheduled Caste in Bihar / SC Caste list in Bihar 2021, BC1 Caste List in Bihar 2021B, BC2 Caste List in Bihar 2021.


हेल्लो दोस्तों, अगर आप बिहार में अनुसूचित जनजाति समुदाय / अनुसूचित जाति समुदाय / अत्यंत पिछड़ा वर्ग (अनुसूची-1) / पिछड़ा वर्ग (अनुसूची-2) समुदाय हैं तो कोई सरकारी नौकरी या कोई अन्य फॉर्म भरते वक्त हो सकता है आपको ST/SC/EBC/BC Caste list की जरूरत पड़े। इस आर्टिकल में आप बिहार राज्य के अंतर्गत आने वाले ST (Scheduled Tributes), SC (Scheduled Caste) , EBC (Extremely Backward Caste) और BC (Backward Caste) सूची देख सकते हैं जो Bihar RTPS के आधार पर हिंदी और अंग्रेजी में हैं।

अनुक्रम
  1. बिहार में अनुसूचित जनजाति की सूची
  2. बिहार में अनुसूचित जाति की सूची
  3. बिहार में अत्यंत पिछड़ा वर्ग (अनुसूची-1)
  4. बिहार में पिछड़ा वर्ग (अनुसूची-2) की सूची

1. बिहार में अनुसूचित जनजाति की सूची

List of Scheduled Tribes in Bihar / ST Caste list in Bihar 2021
बिहार में अनुसूचित जनजाति की सूची, Bihar me anusuchit janjati suchi
ST Caste list in Bihar 2021

1. असुर, अगरिया - Asur, Agaria
2. बेगा - Baiga
3. बनजारा - Banjara
4. बठुडी - Bathudi
5. बेदिया - Bedia
6. हटा दिया है - Omitted
7. बिंझिया - Binjhia
8. बिरहोर - Birhor
9. विरजिया- Birjia
10. चेरो - Chero
11. चिक बराइक - Chik Baraik
12. गोंड - Gond
13. गोराइत - Gorait
14. हो - Ho
15. करमाली - Karmali
16. खरिया, ढेकली खारिया, दुध खारिया, हिल खारिया - Kharia, Dhelki Kharia, Dudh Kharia, Hill Kharia
17. खरवार - Kharwar
18. खोंड - Khond
19. किसान, नागेसिया - Kisan, Nagesia
20. कोरा, मुडी - कोरा - Kora, Mudi-Kora
21. कोरवा - Korwa
22. लोहार, लोहरा - Lohara, Lohra
23. माहली - Mahli
24. माल पहरिया, कुमारभाग पहारिया - Mal Paharia, Kumarbhag Paharia
25. मुन्डा, पातार - Munda, Patar
26. उरांव, धानगर (ओरेयान) - Oraon, Dhangar (Oraon)
27. परहया - Parhaiya
28. संथाल - Santal
29. सोरिया पहाडिया - Sauria Paharia
30. सावर - Savar
31. कवार - Kawar
32. कोल - Kol
33. थारू - Tharu

2. बिहार में अनुसूचित जाति की सूची

List of Scheduled Castes in Bihar / SC Caste list in Bihar 2021
बिहार में अनुसूचित जाति की सूची, Bihar me anusuchit jati suchi
SC Caste list in Bihar 2021

1. Bantar - बंतार
2. Bauri - बौरी
3. Bhogta - भोगता
4. Bhuiya - भुईया
5. Chamar Mochi - चमार, मोची
6. Chaupal - चौपाल
7. Dabgar - दबगर
8. Dhobi - धोबी
9. Dom, Dhangad - डोम, धनगड
10. Dusadh, Dhari, Dharhi - दुसाध, धारी, धारही
11. Ghasi - घासी
12. Halalkhor - हलालखोर
13. Hari, Mehtar, Bhangi - हरि, मेहतर, भंगी
14. Kanjar - कंजर
15. Kurariar - कुररियार
16. Lalbegi - लालबेगी
17. Musahar - मुसहर
18. Nat - नट
19. Pan, Sawasi - पान, स्वासी
20. Pasi - पासी
21. Rajwar - रजवार
22. Turi - तुरी

3. बिहार में अत्यंत पिछड़ा वर्ग (अनुसूची-1) की सूची

List Of Extremely Backward Classes (BC1 Caste List in Bihar 2021), EBC Caste List in Bihar 2021
List Of Extremely Backward Classes (BC1 Caste List in Bihar 2021), EBC Caste List in Bihar 2021
BC1 Caste List in Bihar 2021

1. Kapadia - कपरिया
2. Kanu - कानू
3. Kalandar - कलन्दर
4. Kochh - कोछ
5. Kurmi (Mahto) (Jharkhand autonomous area) - auff (महतो) झारखंड स्वशासी क्षेत्र
6. Kewat (Kaut) - केवट (कउट)
7. Kadar - कादर
8. Kaura - कोरा
9. Korku - कोरकू
10. Kaibart - केवर्त
11. Khatwa - खटवा
12. Khatouri - खतौरी
13. Khangar - खंगर
14. Khatik - खटिक
15. Khelta - खेलटा
16. Gorhi (Chhabi) - गोड़ी (छावी)
17. Gangai (Ganesh) - गंगई (गणेश)
18. Gangota - गंगोता
19. Gandharb - गंधर्व
20. Gulgulia - गुलगुलिया
21. Chain - चांय
22. Chapota - चपोता
23. Chandrabansi (Kahar, Kamkar) - चन्द्रवंशी (कहार, कमकर)
24. Tikulhar - टिकुलहार
25. Dhekaru - ढेकारू
26. Tamaria - तमरिया
27. Turha - तुरहा
28. Tiar - तियर
29. Dhanuk - धानुक
30. Dhamin - धामिन
31. Dhimar - धीमर
32. Dhanwar - धनवार
33. Nonia - नोनिया
34. Nai - नाई
35. Namsudar - नामशुद्र
36. Pandi - पाण्डी
37. Pal (Bherihar, Gareri) - पाल (भेडिहार, गड़ेरी)
38. Pradhan - प्रधान
39. Pingania - पिनगनिया
40. Pahira - पहिरा
41. Bari - वारी
42. Beldar - बेलदार
43. Bind - बिन्द
44. Shekhra - सेखड़ा
45. Bagdi - बागदी
46. Bhuiyar - भुईयार
47. Bhar - भार
48. Bhaskar - भास्कर
49. Mali (Malakar) - माली (मालाकार)
50. Mangar - मांगर
51. Madar - मदार
52. Mallah - मल्लाह
53. Majhwar - मझवार
54. Markandey - मारकन्डे
55. Moriyari - मोरियारी
56. Malar (Malhor) - मलार (मालहोर)
57. Molik - मौलिक
58. Rajdhobi - राजधोबी
59. Rajbhar - राजभर
60. Rangwa - रंगवा
61. Banpar - वनपर
62. Shota (Shota) - सौटा (सोता)
63. Sang - Trash (for Nawada district only) - संतराश (केवल नवादा जिले के लिए)
64. Aghouri - अघोरी
65. Abdal - अबदल
66. Kasab (kasai) (Muslim) - कसाब (कसाई) (मुस्लिम)
67. Chik (Muslim) - चीक (मुस्लिम)
68. Dafali (Muslim) - डफाली (मुस्लिम)
69. Dhunia (Muslim) - धुनिया (मुस्लिम)
70. Dhobi (Muslim) - धोबी (मुस्लिम)
71. Nut (Muslim) - नट (मुस्लिम)
72. Pamaria (Muslim) - पमरिया (मुस्लिम)
73. Bhathiara (Muslim) - भठियारा (मुस्लिम)
74. Bhat (Muslim) - भाट (मुस्लिम)
75. Mehtar, Lalbegia, Halalkhor, Bhangi (Muslim) - मेहतर, लालबेगीया, हलालखोर, भंगी (मुस्लिम)
76. Miriasin (Muslim) - मिरियासीन, (मुस्लिम)
77. Madari (Muslim) - मदारी (मुस्लिम)
78. Meershikar (Muslim) - मोरशिकार (मुस्लिम)
79. Saeen - Fakir - Diwan - Madar (Muslim) - साई - फकीर - दिवान - मदार (मुस्लिम)
80. Momin (Muslim) (Julaha, Ansari) - मोमिन (मुस्लिम) (जुलाहा, अंसारी)
81. Amat - अमात
82. Churihar (Muslim) - चूड़ीहार (मुस्लिम)
83. Prajapati (Kumhar) - प्रजापति (कुम्हार)
84. Raeen or Kunjara (Muslim) - राईन या कुंजरा (मुस्लिम)
85. Soyar - सोयर
86. Thakurai (Muslim) - ठकुराई (मुस्लिम)
87. Nagar - नागर
88. Shershahbadi - शेरशाहबादी
89. Bakkho (Muslim) - बक्खो (मुस्लिम)
90. Adrakhi - अदरखी
91. Chhipi - छीपी
92. Tili - तिली
93. Idrisi Or Darji (Muslim) - इदरीसी या दर्जी (मुस्लिम)
94. Saikalgar (Sikalgar) (Muslim) - सैकलगर (सिकलगर) (मुस्लिम)
95. Rangrej (Muslim) - रंगरेज (मुस्लिम)
96. Sinduria Bania, Kaithal Vaishya, Kath Bania - सिंदुरिया बनिया, कैथल वैश्य, कथबनिया
97. Mukeri (Muslim) - मुकेरी (मुस्लिम)
98. Itfarosh, Itafarosh, Gadheri, ltp aj Ibrahimi (Muslim) - ईटफरोश, ईटाफरोश, गदहेड़ी, ईटपज इब्राहिमी (मुस्लिम)
99. Barhi - बढ़ई
100. Patwa - पटवा
101. Kamar (Karmkar) - कमार (कर्मकार)
102. Dewhar - देवहार
103. Samari Vaishya - सामरी वैश्य
104. Haluwai - हलुवाई
105. Pairgha, Parihar - पैरघा, परिहार
106. Jaga - जागा
107. Laheri - लहेड़ी
108. Rajbanshi (Risia, Deshiya or Polia) - राजवंशी (रिसिया, देशिया या पोलिया)
109. Kulhaiya - कुल्हैया
110. Awadh Bania - अवध बनिया
111. Barai, Tamoli (Chaurasia) - बरई, तमोली (चौरसिया)
112. Teli - तेली
113. Dangi - दांगी

4. बिहार में पिछड़ा वर्ग (अनुसूची-2) की सूची

List of Backward Classesin Bihar, BC2 Caste List in Bihar 2021, OBC Caste list in Bihar 2021
List of Backward Classesin Bihar, BC2 Caste List in Bihar 2021, OBC Caste list in Bihar 2021
BC2 Caste List in Bihar 2021

1. Kagji - कागजी
2. Kushwaha (Koiri) - कुशवाहा (कोईरी)
3. Kosta - कोस्ता
4. Gaddi - गद्दी
5. Ghatwar - घटवार
6. Chanau - चनउ
7. Jadupatia - जदुपतिया
8. Jogi (jugi) - जोगी (जुगी)
9. Nalband (Muslim) - नालबंद (मुस्लिम)
10. Partha - परथा
11. Bania - बनिया
12. Yadav - यादव
13. Rautia - रौतिया
14. Shivhari - शिवहरी
15. Sonar - सोनार
16. Sutradhar - सूत्रधार
17. Sukiar - सुकियार
18. Isai Dharmawalambi (Harijan) - ईसाई धर्मावलंबी (हरिजन)
19. Ishai Dharmawalambi (Anya Pichari Jati) - ईसाई धर्मावलंबी (अन्य पिछड़ी जाति)
20. Kurmi - कुर्मी
21. Bhaat, Bhat, Brahmbhat, Rajb hat (Hindu) - भाट, भट, ब्रह्मभट, राजभट (हिन्दू)
22. Jat (Hindu) - जट (हिन्दू) (सहरसा, सुपौल, मधेपुरा और अररिया जिलों के लिए)
23. Jat (Muslim) - जट (मुस्लिम) (मधुबनी, दरभंगा, सीतामढी, खगडिया एवं अररिया जिलों के लिए)
24. Madaria (Muslim) - मडरिया (मुस्लिम) (मात्र भागलपुर जिला के सन्हौला प्रखंड एवं बांका जिला के धोरैया प्रखण्ड के लिए)
25. Donwar - दोनवार (केवल मधुबनी और सुपौल जिलों के लिए)
26. Surjapuri Muslim - सुरजापुरी मुस्लिम (शेख, सैयद, मल्लिक, मोगल, पठान को छोडकर) (केवल पूर्णियां, कटिहार, किशनगंज एवं अररिया जिलों के लिए)
27. Mallik (Muslim) - मलिक (मुस्लिम)
28. Sainthwar - सैंथवार
29. Goswami, Sanyasi, Atith, Athit, Gosai, Jati, Yati - गोस्वामी, सन्यासी, अतिथ, अथीत, गोसाई, जति, यति
30. Kinnar, Kothi, Hijra, Transgend er, Third Gender - किन्नर, कोथी, हिजड़ा, ट्रांसजेंडर (थर्ड जेंडर)

दोस्तों, बिहार में अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति तथा अत्यंत पिछड़ा वर्ग (अनुसूची-1) और पिछड़ा वर्ग (अनुसूची-2) की सूची -ST/SC Caste List And EBC/BC List In Bihar RTPS के आधार पर हैं। आशा है आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो तो शेयर करें और नीचे कमेंट कर अपनी प्रतिक्रिया दे। Latest Updated List Of ST/SC/EBC/BC के लिए एक Visit RTPS BIHAR.

Read More